कभी सही गिन नहींं पाएंगे इस मंदिर के स्‍तंभ

आज आपको अपने संग सैर करवाती हूं मुरैना जिले के सिहोनिया कस्बे में स्थित ‘ककनमठ मंदिर’ की, जो भुरभुरी रेतीली मिट्टी वाले खेतों के बीच खड़ा इतराता है। यह मंदिर अपनी अचरज भरी विशिष्‍टता के कारण देशी-विदेशी पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है।

जारी

लव ऑल: जिंदगी की कोर्ट पर अपना मैच

अगर यह कहूं कि यह फिल्‍म सिनेमा की भाषा में लिखी गई कविता है तो यह बहुत सतही टिप्‍पणी होगी। आसान सी। ऐसा लगेगा कि उस कवित्‍त तक पहुंचा ही नहीं जो सिनेमा में रचा गया है।

जारी

स्‍वाद आस्‍वाद: गुजरात के ढोकलों से अलग है मालवा के ढोकले

मालवा के परिचय का एक चेहरा यहां की बोली की मिठास और आहार के स्‍वाद का है। मालवा का अपना खास स्‍वाद है। पड़ोसी राज्‍य गुजरात और राजस्‍थान का सिग्‍नेचर फूड भी मालवा में आ कर यहां का स्‍वाद पा कर इठला गया है।

जारी

सबसे अच्‍छा समय, सबसे खराब समय

शांतिलाल जैन, प्रख्‍यात व्‍यंग्‍यकार ‘‘यह सबसे अच्छा समय था, यह सबसे खराब समय था।’’ इन पंक्तियों के लेखक ब्रिटिश उपन्यासकार चार्ल्स डिकन्स कभी भारत आए थे या नहीं मुझे पक्के से पता नहीं, मगर पक्का-पक्का अनुमान लगा सकता हूं कि वे भारत आए ही होंगे और उज्जैन भी। दोपहर में दाल-बाफले-लड्डू सूतने के बाद तीन…

जारी

गली-मोहल्‍ले में यूं मिल जाता है इनोवेशन

सरकारी सर्वे के दौरान महिलाओं से बात करने के लिए घर आंगन में कुछ देर बैठना हो जाता था। ऐसे ही सर्वे में एकबार सुवासरा के मीणा मोहल्ले में जाना यादगार अनुभव बन गया।

जारी

जिंदगी क्‍या है? किताब पढ़ कर जाना

कभी लगता कि ऐसा होता उसके एक किरदार का नाम मेरा होता। मैं कभी उसके संग समंदर की लहरों में छलांगें लगाता, कभी गोद में उसकी सर रख, सो ही जाता। क्या भरोसा वो सो जाती कभी मेरी तहों में जैसे खो जाते है दो जिस्म चादर की सिलवटों में। क्या जाने, क्या होता। वो मेरी होती, मैं उसका होता।

जारी

कहीं का नहीं छोड़ेगा यह बिगड़ा नवाब

आज बरबस ही चाँद याद आ रहा है। पूर्णिमा पर चाँद पूरे शबाब पर होता है, अपनी 64 कलाओं के साथ। यूँ देखें तो चाँद केवल एक उपग्रह हैं और भावनात्मक दृष्टिकोण कहता हैं कि चाँद हमारा ‘मामा” है। बचपन में परिवार के बाहर अगर किसी से नाता जुड़ता है…

जारी

पॉजीटिविटी के फेर में खो न जाएं ‘वो 70 मिनट’

सत्तर मिनट। सिर्फ सत्तर मिनट हैं तुम्हारे पास। शायद, तुम्हारी ज़िन्दगी के सबसे ख़ास सत्तर मिनट। आज तुम अच्छा खेलो या बुरा, ये सत्तर मिनट तुम्हें ज़िन्दगी भर याद रहेंगे। तो कैसे खेलना है, आज मैं तुम्हें नहीं बताऊंगा…

जारी

बेटे, प्रॉमिस करते हैं, हम न टूटेंगे, न रोएंगे

महाराष्ट्र के एक वरिष्ठ आईएएस दंपति मिलिंद और मनीषा म्हैसकर के इकलौते बेटे मन्मथ ने जुलाई 2017 में मुंबई की एक हाइराइज इमारत की 20 वीं मंजिल से कूद कर आत्महत्या कर ली थी। मन्मथ 18 साल का था और पुणे के एक कॉलेज में पहले साल में पढ़ रहा था। बेटे के इस अप्रत्याशित कदम से क्षुब्ध अभागे…

जारी