एक दूजे के लिए: एक खूबसूरत मौसम की याद

‘एक दूजे के लिए’ उस ज़माने की फ़िल्म थी जब प्रेम होते ही प्रेमीजन बिस्तर पर कूद नहीं जाते थे। प्रेम का मतलब तब रोमांस ही होता था,’लव मेकिंग’ नहीं। कुछ झिझक बाक़ी थी। उदारीकरण आठ दस साल और दूर था।

जारी

लव ऑल: जिंदगी की कोर्ट पर अपना मैच

अगर यह कहूं कि यह फिल्‍म सिनेमा की भाषा में लिखी गई कविता है तो यह बहुत सतही टिप्‍पणी होगी। आसान सी। ऐसा लगेगा कि उस कवित्‍त तक पहुंचा ही नहीं जो सिनेमा में रचा गया है।

जारी